NIFTY kya hai? Kaise kam krta hai? NIFTY और SENSEX में क्या अंतर है?

क्या आप जानते हैं कि “Nifty Kya hai” या निफ्टी का मतलब क्या होता है और यह कैसे काम करता है? यदि आप Nifty से जुड़ी जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं, तो आप इस पोस्ट को पूरा पढ़ें। इस पोस्ट में आपको Nifty से जुड़ी सभी जानकारी मिलेगी।

निफ़्टी शेयर मार्केट से संबंध रखता है और आप ने यह तो सुना ही होगा कि लोग बात करते हैं कि Nifty आज इतने अंक ऊपर गया या आज इतने अंक नीचे गया है। तो चलिए जान ही लेते हैं कि इन सब का मतलब क्या है और Nifty से जुड़ी सभी जानकारी जानते हैं।

Nifty क्या है | Nifty kya hai?

Nifty kya hai

Nifty नेशनल स्टॉक एक्सचेंज ऑफ़ इंडिया का एक महत्वपूर्ण Benchmark होता है। जो कि 50 प्रमुख शेयर्स का सूचकांक होता है। और यह बाजार की स्थिति को दर्शाता है कि यह ऊपर उठ रहा है कि नीचे, Nifty 50 बाजार होने वाली मंदी और तेजी पर पूर्णता नजर रखता है और मंदी और तेजी के आधार पर ही अपना इंडेक्स Value तैयार करता है।

Nifty एक तरह से स्टॉक इंडेक्स (Stock Index) है जो कि 50 प्रमुख कंपनियों के स्टॉक को इंडेक्स करता है। यह 50 कंपनियों से अधिक कंपनियों के Stock को इंडेक्स नहीं करता है तथा Nifty में 12 अलग-अलग सेक्टर की 50 कंपनियां इंडेक्स है।

Nifty Meaning In Hindi?

Nifty का फुल फॉर्म ” National Stock Exchange Fifty” है। Nifty दो शब्दों National और Fifty से मिलकर बना हुआ है, जिसको Nifty 50 भी कहते हैं लेकिन Nifty 50 को अधिकतर लोग Nifty के नाम से ही जानते हैं और उसका प्रयोग करते हैं।

Nifty के कार्य Kya Hai?

Nifty एक तरह से बाजार और कंपनियों के बारे में में जानकारी देता है और Nifty से हमें यह पता चलता है कि Nifty के अंदर लिस्टेड 50 कंपनियां किस तरह से कार्य कर रही है।

यदि किसी कंपनी के भाव में वृद्धि हो जाती है तो उसकी वजह से Nifty में भी काफी तेजी आ जाती है। जब nifty में लिस्टेड कंपनियों का भाव गिरता है या लाभ कम होता है तो इसका सीधा प्रभाव शेयर के भाव पर पड़ता है और शेयर के भाव में कमी आने लगती है।

शेयर्स के भाव में कमी आने पर Nifty में काफी गिरावट आ जाती है इस तरह Nifty को भी नुकसान का सामना करना पड़ता है।

Nifty के फायदे kya hai?

  • Nifty की वजह से हमें देश की अर्थव्यवस्था की जानकारी बड़े आसानी से मिल जाती है। यदि बाजार में तेजी आई हुई होती है तो Nifty ऊपर की ओर जाता है। लेकिन यदि बाजार में मंदी है तो Nifty नीचे की ओर जाती है।
  • Nifty के सहायता से हमें बाजार में होने वाली मंदी और तेजी के बारे में भी हमें जानकारी मिल जाती है। अगर Nifty नीचे की ओर जाता है तो बाजार में मंदी आ जाती है तथा यदि Nifty ऊपर की ओर जाता है तो बाजार में तेजी आ जाता है। अतः बाजार का सटीक अनुमान Nifty के द्वारा ही लगाया जाता है।
  • पूरी दुनिया का नजर भारतीय बाजार पर रहता है और जब निफ़्टी ऊपर की ओर जाती है, तो विदेशी निवेशक भी भारतीय बाजार में अपना पैसा लगाते हैं। जिससे हमारी अर्थव्यवस्था मजबूत होती है और कंपनी के मार्केट भी बढ़ती है।
  • Nifty का इंडेक्स बढ़ने पर हमें यह पता चलता है कि कंपनी अच्छी ग्रोथ कर रही है और भविष्य में संभव रोजगार बढ़ने की उम्मीद है।

Nifty और सेंसेक्स में क्या अंतर है?

Nifty और सेंसेक्स दोनों शेयर मार्केट के ही इंडेक्स हैं, और यह दोनों बाजार की तेजी मंदी को दर्शाते हैं। निफ्टी में 50 लिस्टेड कंपनियां होती हैं और इन कंपनियों पर Nifty पूर्णतः नजर रखती है। यदि इन कंपनियों का ग्रोथ होता है तो Nifty में भी ग्रोथ दिखाई देता है और यदि कंपनियों में मंदी आती है तो Nifty में भी मंदी दिखाई देती है।

सेंसेक्स बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज लिमिटेड में 30 कंपनियों के ऊपर नजर रखता है और यह इन कंपनियों पर निर्भर करता है, कि यदि कंपनी का ग्रोथ होगा तो सेंसेक्स में भी ग्रोथ होगा तथा यदि कंपनी में मंदी आती है तो सेंसेक्स में भी मंदी आती है।

Nifty कैसे काम करता है?

National Stock Exchange (NSE) भारत का प्रमुख स्टॉक एक्सचेंज है और इसमें लगभग 1,600 से भी अधिक कंपनियां लिस्टेड है।

निफ़्टी में 50 कंपनियां लिस्टेड है जो कि 12 सेक्टरों में अलग-अलग विभक्त है। यह कंपनियां अपनी मार्केट कैंप के लिहाज से पुरे बाजार का 60% भाग होता है। इसलिए पूरे बाजार का हाल सिर्फ इन कंपनियों के शेयर की हलचल पर ही निर्भर करता है। यदि इन कंपनियों में ग्रोथ आता है तो Nifty में भी ग्रोथ देखने को मिलता है, तथा यदि इन कंपनियों में मंदी आता है तो Nifty में भी मंदी देखने को मिलता है।

SGX Nifty क्या है?

SGX सिंगापुर स्टॉक एक्सचेंज से संबंधित है, जहां पर यह किसी शेयर के पूर्व निर्धारित मूल्य को पहले से निर्धारित करके किसी भी निवेश के भविष्य के जोखिम को कम करता है।

सरल शब्दों में यह एक साधारण निफ्टी की तरह ही होता है, जहां एक शेयर की कीमतों में उतार-चढ़ाव की परवाह किए बिना, एक निवेशक और खरीदार को एक शेयर की पूर्व निर्धारित कीमत का पालन करना होता है।

इसका मतलब यह है कि SGX Nifty परिणाम की भविष्यवाणी करने में मदद करते हैं, SGX Nifty भारतीय निफ्टी के व्यवहार की भविष्यवाणी और निरीक्षण करने में काफी मदद करता है।

Nifty से जुड़े महत्वपूर्ण प्रश्न

शेयर मार्केट में Nifty और Sensex क्या है?

सेंसेक्स एक बेंचमार्क इंडेक्स है जिसमें कुल 30 Stocks हैं जबकि Nifty में 50 Stocks है और यह सूचकांक का कार्य करती है।

NIFTY बैंक क्या है?

Nifty बैंक को इंडिया की सर्विस प्रोडक्ट लिमिटेड कहा जाता है, यह सन 2000 में Index हुआ था।

Nifty 50 में कितने स्टॉक शामिल है?

Nifty दो शब्दों का योग है नेशनल और 50 और Nifty में कुल 50 Stocks सम्मिलित है।

सेंसेक्स का मतलब क्या होता है?

सेंसेक्स की शुरुआत दीपक मोहिनी द्वारा हुई थी और सेंसेक्स शब्द का निर्माण सेंसिटिव और इंडिया के शब्द से मिलकर हुई है जिसका तात्पर्य संवेदी सूचकांक होता है।

निष्कर्ष ( Conclusion)

इस पोस्ट के माध्यम से आप ने जाना कि Nifty kya hai? Nifty कैसे काम करता है? Nifty और सेंसेक्स में क्या अंतर है?  Nifty के फायदे व Nifty से जुड़े महत्वपूर्ण प्रश्नों के बारे में जानकारी प्राप्त की।

आशा करते हैं आपको Nifty से जुड़ी यह जानकारी अच्छी लगी होगी यदि आपको यह जानकारी अच्छी लगी हो तो इसे सोशल मीडिया पर शेयर जरूर करें धन्यवाद।

read more:

 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here