LTE और VoLTE क्या हैं और इन दोनों में क्या अंतर है?

आज के इस लेख में हम जानेंगे की आखिर LTE और VoLTE क्या हैं (What is LTE and VoLTE in Hindi), VoLTE के क्या फायदे हैं, LTE और VOLTE में क्या अंतर है आदि।  तो अगर आप भी इन सब के बारे में जानना चाहते हैं तो इस लेख को पूरा पढ़ें। 

Lte aur VoLte kya hai

LTE क्या है – What is LTE in Hindi?


LTE जिसका full form Long Term Evolution है एक 4G wireless broadband standard है जो WiMax और 3G जैसी पिछली पुराणी तकनीकों को replace करता है। LTE, 3rd Generation Partnership Project (3GPP) द्वारा विकसित किया  गया एक 4G वायरलेस कम्युनिकेशन स्टैंडर्ड है जो कि मोबाइल डिवाइस जैसे स्मार्टफोन, टैबलेट, नोटबुक और वायरलेस हॉटस्पॉट के लिए 10x तक की स्पीड प्रदान करने के लिए बनाया गया है।

इसकी एक सबसे बड़ी खामी यह है कि LTE में इंटरनेट चलते वक़्त अगर कोई फ़ोन आजाता है तो जो इंटरनेट है वो बंद हो जाता है। LTE में अगर हम कोई वीडियो कॉल करते हैं तो हमें थर्ड पार्टी अप्प जैसे skype,whatsapp ,google duo आदि की सहायता लेनी पड़ेगी।  LTE की तकनीक India में सबसे पहले Airtel ले कर आया था 2012 में।

VoLTE क्या है – What is VoLTE in Hindi?


VoLTE: Voice over LTE, यहां आप किसी भी डेटा या वॉयस बैंड को डिस्कनेक्ट किए बिना एक ही समय में वॉयस और डेटा दोनों का उपयोग कर सकते हैं, इसका मतलब है कि वॉयस और डेटा दोनों का उपयोग किया जा सकता है एक VoLTE नेटवर्क पर। इसलिए यदि आप VoLTE नेटवर्क का उपयोग करके इंटरनेट से मूवी डाउनलोड कर रहे हैं और उसी समय आपको कोई कॉल आता है तो आपका डेटा तब भी active रहेगा और paused नहीं होगा।

 

क्या आपका Smartphone VoLTE को सपोर्ट करता है?


अगर आपके smartphone के network signal के पास VoLTE का चिन्ह आता है तो इसका मतलब यह है की आपका फ़ोन VoLTE support करता है। 

 

VoLTE के लाभ – Benifits of VoLTE in Hindi


अभी तक हमने जाना कि LTE और VoLTE क्या है (What is LTE and VoLTE in Hindi) और अब जानेंगे कि आखिर VoLTE के फायदे क्या हैं:

  1. बेहतर Calls sound

VoLTE high-definition (HD) voice quality को सक्षम बनाता है जो मोबाइल कॉल की voice को इतना क्लियर बनता है जैसे कि आप किसी व्यक्ति से हकीकत में बात कर रहे हैं।

HD voice, narrowband voice services की तुलना में wider frequency range का उपयोग करता है, जो बैकग्राउंड शोर को कम करता है और कॉलर्स की आवाज को बढ़ाता है, जिससे कॉलर एक दूसरे को स्पष्ट रूप से सुन सकते हैं। 

VoLTE की superior call quality के साथ, users बेहतर वार्तालाप कर सकते हैं। व्यवसायों के लिए, बेहतर call quality employees के समय को बचाएगी और उनकी efficiency को बढ़ाएगी।

  1. Quick Call Connectivity

Circuit-Switch 2G और 3G नेटवर्क पर वॉयस कॉल के लिए, किसी के साथ कॉल स्थापित करने में लगने वाला समय बहुत लंबा हो सकता है। कभी-कभी देरी से ऐसा महसूस होता है कि कॉल बिल्कुल नहीं लगा। लेकिन VoLTE के साथ, call set-up समय बहुत कम हो जाता है ताकि लोग एक-दूसरे के साथ अधिक तेज़ी से जुड़ सकें।

  1. लंबे समय तक चलने वाली Battery life

IP (VoIP) apps पर Over-The-Top (OTT) voice का उपयोग करने की तुलना में, VoLTE कॉल user के फोन पर कम बैटरी resources का उपयोग करते हैं। नोकिया ने एक बार performance में किसी भी प्रकार के अंतर की खोज और तुलना करने के लिए विभिन्न प्रकार के VoIP apps और VoLTE clients का परीक्षण किया।

 परीक्षा परिणामों में दिखाया गया कि VoLTE ने VoIP apps ऐप्स की तुलना में 40% कम बैटरी का उपयोग किया। ऐसे कई factors और variables battery life को प्रभावित करते हैं, VoLTE नेटवर्क resources का अधिक कुशलता से उपयोग करता है, जो user के devices को चार्ज पर लंबे समय तक चलता है।

LTE और VoLTE के बीच अंतर – Difference between LTE and VoLTE in Hindi


  1. Voice Quality

LTE वॉयस क्वालिटी को प्रभावित किए बिना एक ही समय में वॉयस और डेटा सेवाओं को support कर भी सकता है और नहीं भी, इस प्रकार यह VoLTE नेटवर्क की तुलना में कम कुशल है, जबकि VoLTE तेज वॉयस कॉल सेट-अप को सक्षम बनता है। यदि आप VoLTE नेटवर्क पर हैं, तो दोनों उपयोगकर्ता निरंतर कॉल session का अनुभव करेंगे।

2. Data Connection

LTE में, नेटवर्क वॉयस कॉल करते समय डेटा कनेक्शन को बंद कर देगा, जबकि आपको VoLTE में वॉयस कॉल करते समय अपना डेटा कनेक्शन बंद करने की आवश्यकता नहीं है। LTE को 4G बैंडविड्थ पर data rates में वृद्धि के लिए target किया जाता है, VoLTE को एक दूसरे को प्रभावित किए बिना वॉयस कॉलिंग और इंटरनेट डेटा दोनों की ओर target किया जाता है।

3. Internet Dependability

free calls करने के लिए हर समय इंटरनेट डेटा enable होना चाहिए। जबकि दूसरी ओर, VoLTE में, आपको free calls करने के लिए इंटरनेट डेटा को enable करने की आवश्यकता नहीं है।

4. External Software

LTE नेटवर्क पर वीडियो कॉल करने के लिए बाहरी सॉफ्टवेयर की आवश्यकता होती है जैसे Skype, WhatsApp, Facebook Messenger आदि। जबकि आपको VoLTE नेटवर्क पर वीडियो कॉल करने के लिए किसी बाहरी सॉफ्टवेयर की आवश्यकता नहीं है – आपको वीडियो कॉल करने के लिए बस अपने फोन नंबर की आवश्यकता है।

 

Mobile Generation का इतिहास – History of the Mobile Generations in Hindi


अगर  आप 1G, 2G, 3G, 4G और 5G  का मतलब समझते हैं, तो आपके के लिए  सेल फोन की अंतर्निहित तकनीक (Underlying technology) की ताकत को पहचानना आसान होगा। 1G wireless cellular technology की पहली generation को संदर्भित करता है, 2G technology की दूसरी generation को संदर्भित करता है, और इसी तरह बाक़ी के भी।

अधिकांश वायरलेस कैरियर वर्तमान में 4G और 3G तकनीक दोनों को support करते हैं, जो तब उपयोगी होता है जब आपका location आपके फोन को केवल 3G गति से operate करने की अनुमति देता है।

1G: 1980 के दशक में 1G technology के साथ Cell phones की शुरुआत हुई। 1G wireless cellular technology. की पहली पीढ़ी (first generation) है। 1G केवल वॉइस कॉल को ही सपोर्ट करता है। 1G एनालॉग तकनीक है, और इसका उपयोग करने वाले फोन की battery life और voice quality अच्छी नहीं होती है। 1G technology की अधिकतम speed 2.4 Kbps है।

2G: सेल फोन को पहला बड़ा अपग्रेड तब  मिला जब उनकी तकनीक 1G से 2G हो गई। यह लीप 1991 में फिनलैंड में GSM नेटवर्क पर हुआ था जो प्रभावी रूप से  cell phones  को analog से digital communications. की ओर ले गया। 2G telephone technology ने call और text encryption, जैसे SMS, picture messages, and MMS जैसी data services की शुरुआत की।

हालाँकि 1G को 2G से बदल दिया गया है और बाद के technology versions से अलग कर दिया गया है, फिर भी इसका उपयोग दुनिया भर में किया जाता है। General Packet Radio Service (GPRS) के साथ 2G की अधिकतम speed 50 Kbps है।

3G: 1998 में 3G networks की शुरूआत faster data-transmission speed के रूप में हुई, जिससे आप अपने सेल फोन का उपयोग data-demanding तरीकों जैसे कि video calling और mobile internet access के लिए कर सकते हैं। “मोबाइल ब्रॉडबैंड” शब्द को पहली बार 3G cellular technology पर लागू किया गया था।

3G की अधिकतम speed non-moving devices में लगभग 2 Mbps और चलती वाहनों में 384 Kbps हो सकती  है।

4G: नेटवर्किंग की चौथी पीढ़ी, जो 2008 में रिलीज़ हुई थी वो 4G है , यह gaming services, HD mobile TV, video conferencing, 3D TV और अन्य features जो high speeds की मांग करते हैं को support करता है। 4G technology की अधिकतम speed 100 Mbps है।

अधिकांश वर्तमान सेल फोन मॉडल 4G और 3G  technologies दोनों को support करते हैं।

5G: यह fifth generation का cellular network technology है। 5G अन्य सुधारों के साथ डेटा दरों में तेजी से वृद्धि, higher connection density, बहुत कम विलंबता और ऊर्जा बचत का वादा करता है।

5G कनेक्शन की अनुमानित theoretical speed 20 Gbps प्रति सेकंड तक होगी।

 

What is LTE and VoLTE in Hindi लेख आपको कैसा लग?


हम उम्मीद करते हैं कि यह article LTE और VoLTE क्या हैं (What is LTE and VoLTE in Hindi)? आपको पसंद आया होगा और इसमें आपको काफी कुछ नया जानने को मिला होगा।

अगर आपके मन में इस लेख को लेकर कोई सवाल है या आप कोई सुझाव देना चाहते हैं तो आप नीचे comment box में जाकर लिख सकते हैं। 

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा तो कृपया इस लेख को नीचे दिए गए social media बटन का उपयोग करके share करें जिससे और लोगों तक यह जानकारी पहुँच सके धन्यवाद। 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here