Keyboard क्या है और इसे Input device क्यों कहते है?

इस पोस्ट में हम कंप्यूटर कीबोर्ड के बारे में जानेंगे जैसे कि Keyboard क्या है (What is Keyboard in Hindi) और इसे Input device क्यों कहते है? और इस के साथ ही हम Computer Keyboard से related और भी topic पे discuss करंगे जैसे – keyboard कितने प्रकार के होते हैं, इसे कैसे इस्तेमाल करते हैं और पहला कीबोर्ड का आविष्कार कब किया गया था इत्यादि। तो अगर आप के मन में भी ये सवाल हैं और उसके बारे में जानना चाहते हैं तो बस पेज को नीचे की तरफ scroll करें और इसे  पूरा पढ़ें। 

Keyboard क्या है (What is Keyboard in Hindi)?

Keyboard in Hindi

कंप्यूटर कीबोर्ड एक इनपुट डिवाइस है जो किसी व्यक्ति को कंप्यूटर में letters, numbers और दूसरे symbols (इन्हें Keyboard में characters कहा जाता है) को कंप्यूटर में  प्रवेश करने की अनुमति देता है। यह कंप्यूटर के लिए सबसे अधिक उपयोग किए जाने वाले Input devices में से एक है। बहुत सारे data enter करने के लिए Keyboard का उपयोग करना typing कहलाता है। एक Keyboard में कई mechanical switches या push-buttons होते हैं, जिन्हें “keys” कहा जाता है।

जब इनमें से किसी  एक को दबाया जाता है,तो एक electrical circuit बंद हो जाता है, और Keyboard कंप्यूटर को एक signal भेजता है जो यह बताता है कि वह स्क्रीन पर किस अक्षर, संख्या या प्रतीक को दिखाना चाहता है तब कंप्यूटर का सीपीयू स्क्रीन पर character को  दिखाता है,आमतौर पर उस स्थान पर जहां कर्सर होता है।

characters को enter करने के अलावा, कंप्यूटर कीबोर्ड में keys भी होती हैं जो character को बदल देती हैं (जैसे कि shift या caps lock) या कंप्यूटर को विशेष कमांड देती हैं। keys के संयोजन के माध्यम से विशेष कमांड को भी activate किया जा सकता है (जैसे कि कॉपी किये गये content  को paste करने के लिए विंडोज पर Ctrl + V).

एक Keyboard को तार का उपयोग करके कंप्यूटर से जोड़ा जा सकता है, लेकिन यह wireless भी हो सकता है (जैसे जो Bluetooth का उपयोग करते हैं)। अधिकांश 21 वीं सदी के Keyboard जो wires का उपयोग करते हैं, कंप्यूटर पर एक USB port से कनेक्ट होते हैं ।

सामान्य तौर पर, एक कंप्यूटर कीबोर्ड (Keyboard in Hindi) में निम्नलिखित keys होती हैं:

  1. Alphanumeric Keys: इसमें अक्षर और अंक शामिल हैं।
  2. Punctuation Keys: इनमें comma, period, semicolon आदि शामिल हैं और
  3. Special Keys: ये function keys, control keys, arrow keys और Caps lock keys आदि हो सकते हैं।

Keyboard एक Input device क्यों है?

एक कंप्यूटर कीबोर्ड को एक Input device माना जाता है क्योंकि यह केवल कंप्यूटर को डेटा भेजता है और किसी भी जानकारी को वापस प्राप्त नहीं करता है।

आवश्यक Keys (Essential Keys in Hindi)

Space Bar. शब्दों के बीच में एक स्थान शामिल करने के लिए इसे दबाएं।

Enter Key. Letters के दाईं ओर इस बड़ी key को कभी-कभी Return Key भी कहा जाता है। यदि आप text में typing कर रहे हैं, तो आप इसे एक बार दबा सकते हैं और text cursor अगली line में नीचे चला जाएगा। Paragraph के बीच एक line स्थान बनाने के लिए इसे दो बार दबाएं।

Backspace Key. यह key cursor के बाईं ओर के अंतिम अक्षर को हटा देती है। आप किसी भी प्रकार की गलतियों को ठीक करने के लिए इसका उपयोग कर सकते हैं।

Delete Key. यह कुंजी कर्सर के दाईं ओर के पहले अक्षर को हटा देती है।

Caps Lock. इसका उपयोग capital letters में typing के लिए किया जाता है। Keyboard के top पर एक light होती है यह दिखाने के लिए कि क्या Caps Lock चालू है। इसके नीचे अक्सर एक अक्षर A होता है। एक ही समय में एक Key के रूप में shift key को दबाए रखना भी इसे एक बड़े अक्षर में बदल देगा।

Shift Key. इसे capital letters में type करने के लिए और और letters के ऊपरी हिस्से पर symbol को टाइप करने के लिए किया जाता है । कीबोर्ड के दोनों तरफ एक Shift key होते हैं ।

Arrow Keys. ये आपके text cursor को screen के चारों ओर ले जाते हैं। ये page को ऊपर या नीचे, और बाएँ या दाएँ ले जा सकते हैं यदि वह screen से बड़े है।

Useful keys

Windows Key. यह start menu है और shortcut के लिए अन्य keys के साथ संयोजन में भी इसका उपयोग किया जा सकता है।

Scroll keys. इनका उपयोग text cursor को उन शब्दों के इर्द-गिर्द ले जाने के लिए किया जाता है जिन्हें आप type कर रहे हैं या एक वेब पेज जिसे आप देख रहे हैं।

  • Home उस page के top पर text cursor को ले जाता है जिसे आप type कर रहे हैं या देख रहे हैं।
  • End आप जिस पेज को देख रहे हैं या type कर रहे हैं, उसके नीचे text cursor को ले जाता है।
  • Page Up यह पेज को ऊपर की तरफ scroll करता है।
  • Page Down यह पेज को नीचे की तरफ scroll करता है।

Ctrl (Control) Keys. ये Keyboard shortcut के लिए उपयोग किए जाते हैं, जैसे Ctrl key को hold करते हुए A (Ctrl+A) press करने से एक page का सारा content select हो जायेगा। 

Alt Key. यह Ctrl key की तरह उपयोग किया जाता है। यदि आपके कंप्यूटर पर कई windows खुले हैं, तो आप उनके बीच स्विच करने के लिए Alt और Tab को एक साथ दबा सकते हैं।

Tab Key. यह एक टेबल या एक फॉर्म में text cursor को अगले बॉक्स में ले जाता है।

Esc (Escape) Key. यह किसी भी text को clear करता है जिसे आपने एक text box में टाइप किया है।

Number Key Pad. Number row के साथ-साथ, Number key pad भी आपको नंबर टाइप करने देता है। काम करने के लिए नंबर लॉक बटन को दबाया जाना चाहिए; यह दिखाने के लिए कि इसके ऊपर एक light होगी। नंबर keys में एक enter button की भी होता है जो main Keyboard की तरह ही काम करती है।

Keyboard layout के प्रकार (Type of keyboards in Hindi)

QWERTY: सबसे आम और उपयोगी कीबोर्ड लेआउट QWERTY लेआउट है। आजकल यह एक सार्वभौमिक (universal) Keyboard layout बन गया है। यह कंप्यूटर, लैपटॉप या मोबाइल उपकरणों में व्यापक रूप से उपयोग किया जाता है।

QWERTY लेआउट को वर्ष 1873 में Christopher Latham Sholes द्वारा डिजाइन किया गया था। layout को डिजाइन करने का उद्देश्य typing गलतियों को कम करना था।

Dvorak: August Dvorak और William Dealey ने वर्ष 1936 में Dvorak Keyboard layout design किया था। बाद में, कई designers द्वारा कई डिज़ाइन संशोधन किए गए हैं।

यह typing professionals द्वारा सबसे अधिक इस्तेमाल किया जाने वाला layout है। कई professional typists type करने के लिए Dvorak simplified Keyboard का उपयोग करते हैं।

विश्व के सबसे तेज typist Barbara Blackburn ने विश्व रिकॉर्ड बनाने के लिए इस layout का उपयोग किया था। इसलिए, यदि आप एक लेखक या ब्लॉगर हैं, तो आपको एक Dvorak Keyboard का उपयोग करना चाहिए।

AZERTY: AZERTY Keyboard लेआउट मुख्य रूप से फ्रांस और यूरोप के कुछ हिस्से में उपयोग किया जाता है। AZERTY लेआउट को 19 वीं शताब्दी के अंतिम दशक में QWERTY लेआउट के विकल्प के रूप में फ्रांस में developed किया गया था।

QWERTZ: QWERTZ layout का उपयोग मुख्य रूप से जर्मनी और मध्य यूरोप के अन्य हिस्सों में किया जाता है। AZERTY Keyboard की तरह, इसमें भी कई variants जैसे Swiss keyboard, Slavic Latin keyboard, Slovak, Romanian, Polish keyboard, Hungarian keyboard, Czech QWERTZ keyboard, Albanian & German AZERTY keyboard होते हैं।

HCESAR: पुर्तगाली सरकार को वर्ष 1937 में HCESAR Keyboard layout बनाया गया था। यह QWERTY लेआउट से पूरी तरह से अलग था और इतना उपयोगकर्ता-अनुकूल नहीं था। इसलिए 1980 के दशक की शुरुआत में, पुर्तगाली सरकार ने सभी पुराने कीबोर्ड को QWERTY कीबोर्ड से बदल दिया। यह अब अप्रचलित है।

कीबोर्ड कनेक्शन के प्रकार (Types of Keyboard Connections in Hindi)

बाजार में विभिन्न प्रकार के connections के साथ कई प्रकार के Keyboard उपलब्ध हैं। अगर आप नया कीबोर्ड खरीदने जा रहे हैं तो पहले कीबोर्ड कनेक्शन के बारे  में जान लें। 

ADB keyboard: Apple Desktop Bus या ADB एक कम गति वाले devices को Apple कंप्यूटर से जोड़ने के लिए एक connection है। Steve Wozniak ने इस connection को developed किया था और Apple Inc. द्वारा वर्ष 1986 में पेश किया गया था। वे इस connection का उपयोग कंप्यूटर पर Keyboard और माउस को जोड़ने के लिए करते हैं।

यह connection type 1999 में Power Macintosh G3 पर अंतिम बार उपयोग किया गया था। यह अब अप्रचलित है।

XT keyboard: IBM ने IBM PC-compatible computers के लिए XT keyboard port developed किया था। उन्होंने अपने कंप्यूटर को keyboard से जोड़ने के लिए XT और AT port का इस्तेमाल किया था। लेकिन PS/2 connection के विकास के बाद, XT port धीरे-धीरे अप्रचलित हो गया।

AT keyboard: AT keyboard port को IBMकी दूसरी पीढ़ी के personal computers पर व्यापक रूप से इस्तेमाल किया गया था। और PS/2 port के विकास तक बाजार में उपलब्ध था।

PS/2 and mini PS/2: PS/2 या Personal System/2 एक dedicated 6 pin port है, जिसका उपयोग कीबोर्ड और माउस को पर्सनल कंप्यूटर से जोड़ने के लिए किया जाता है। IBM ने इस connection type को develop किया था और वर्ष 1987 में पेश किया था । बाद में उन्होंने mini PS/2 port, develop किया, जो अभी भी पीसी में उपलब्ध है।

USB: USB कंप्यूटर और लैपटॉप में व्यापक रूप से उपयोग होने वाला नया communication port है। मूल रूप से, USB एक port नहीं है, यह BUS है। इसका मतलब है कि एक single USB connection एक समय में कई signals ले जा सकता है।

Keyboard in Hindi पोस्ट आपको कैसा लग?

आज के इस पोस्ट में Keyboard क्या है? (What is Keyboard in Hindi) के बारे में हमने आपको जो जानकारी दी है हम उम्मीद करते हैं कि आपको यह जानकारी पसंद आयी होगी ।

अगर आपका इस पोस्ट से related कोई भी सवाल हैं तो आप हम से कमेंट के माध्यम से पूछ सकते हैं हमें आप के सवालों के जवाब देने में ख़ुशी होगी। और आखिर में आपसे यही request है कि आप इस पोस्ट को Social network जैसे Facebook,Twitter इत्यादि पे ज़रूर शेयर करें जिससे और लोगों तक यह information पहुँच सके और वो इसका फ़ायदा उठा सकें धन्यवाद। 

 

1 COMMENT

  1. आपने कीबोर्ड के बारे में बहुत ही अच्छा जानकारी प्रदान किया हाई, इसी तरह लोगों को कुछ ना कुछ सिखाते रहिए आपका धन्यबाद ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here