IP Address क्या है? जानिये हिंदी में!

Internet Protocol Address (या IP Address) एक unique address होता है जिसका उपयोग personal computers, tablets और smartphones जैसे computing devices, IP network के साथ खुद को पहचानने और संचार करने के लिए करते हैं। IP network से जुड़े किसी भी device का नेटवर्क के भीतर एक unique IP address का होना ज़रूरी होता है। IP Address के basics को समझना internet user के लिये ज़रूरी होता है। IP Address के बारे में और जानने के लिये इस article को पूरा पढ़ें कि IP Address क्या है (What is IP Address in Hindi) यह कैसे काम करते हैं और आपकी सुरक्षा के लिए यह इतना महत्वपूर्ण क्यों है।

IP Address क्या है (What is IP Address in Hindi)

what is ip address in hindi

IP Address का मतलब “Internet Protocol address” होता है। Internet Protocol इंटरनेट पर संचार (communication) के लिए नियमों का एक समूह है, चाहे वह मेल भेजना, वीडियो स्ट्रीमिंग करना, या किसी वेबसाइट से जुड़ना हो। IP address इंटरनेट पर नेटवर्क या डिवाइस की पहचान करता है। इंटरनेट प्रोटोकॉल प्रत्येक unique device को अपना स्वयं का IP address निर्दिष्ट करने की प्रक्रिया का प्रबंधन करते हैं (इंटरनेट प्रोटोकॉल अन्य चीजें भी करते हैं, जैसे इंटरनेट ट्रैफ़िक को रूट करना आदि।) इस तरह, यह देखना आसान हो जाता है कि internet पर कौन सी devices क्या information भेज रही हैं, request कर रही हैं या receive कर रही हैं।

हर एक device जो इंटरनेट से जुडी होती है, उसका एक IP address होता है। IP addresses के दो मुख्य version होते हैं: IPv4 और IPv6, यदि आप numbers को count करते हैं तो उनके अंतर को पहचानना आसान हो जाता है। IPv4 address को चार numbers की एक श्रंखला के द्वारा व्यक्त किया जाता है जो dots के द्वारा अलग किये गए होते है जैसे कि 5.64.52.66, IPv6 address को hexadecimal संख्या के आठ समूहों द्वारा व्यक्त किया जाता है, जो colons द्वारा अलग किए जाते हैं। एक सामान्य IPv6 address इस तरह दिखता है: 2630: 0aba1: 0d02: 2052: 0100: 8c2d: d340: 72b2.

 

TCP/IP क्या है?

जब Transmission Control Protocol (TCP) IP के साथ जुड़ते हैं, तो आपको internet highway traffic controller मिलता है। TCP और IP इंटरनेट पर डेटा को प्रसारित करने के लिए एक साथ काम करते हैं लेकिन विभिन्न स्तरों पर।

चूंकि IP एक नेटवर्क पर विश्वसनीय पैकेट वितरण की गारंटी नहीं देता है, TCP एक protocol है जो एक transmission में विश्वसनीयता सुनिश्चित करता है। विशेष रूप से, TCP गारंटी देता है:

  • किसी भी पैकेट के गुम न होने का।
  • पैकेट के सही क्रम में होने का।
  • पैकेट के कोई duplicate न होने का।

यह सब यह सुनिश्चित करता है कि प्राप्त किया गया डेटा सुसंगत, क्रम में, पूर्ण और सुचारू है। Data transmission के दौरान, TCP IP से ठीक पहले काम करता है। TCP, IP को भेजने से पहले TCP packet में डेटा बंडल करता है, जो बदले में IP packet में encapsulate करता है।

IP Packets

एक IP Packet information की एक basic unit है। इसमें data और एक IP header होता है। TCP/IP नेटवर्क पर TCP packets सहित डेटा का कोई भी piece bits में टूट जाता है और नेटवर्क पर transmission के लिए पैकेट में रखा जाता है। जब packets अपने destination तक पहुंच जाते हैं, तो उन्हें original data में फिर से शामिल कर लिया जाता है।

IP address कैसे काम करता है (How do IP address work in Hindi)?

सभी डिवाइस जो इंटरनेट से जुड़े होते हैं (जिनमें PCs, laptops, smartphones, routers, और WiFi connected devices शामिल हैं) को एक विशिष्ट identifier (IP address) सौंपा (assigned) जाता है।

जैसे लोग एक-दूसरे को समझने के लिए एक निश्चित भाषा का उपयोग करते हैं, उसी तरह information को भी दिशानिर्देशों के एक विशिष्ट सेट के साथ internet पर भेजा जाता है। इंटरनेट के लिए जो communication system  है वो TCP/IP है। सभी डिवाइस जो इंटरनेट से जुड़े होते हैं, एक दूसरे के साथ संवाद (communicate) करने के लिए एक ही प्रोटोकॉल का उपयोग करते हैं।

IP address का मालिक कौन है?

इंटरनेट से जुड़ने वाले हर उपकरण का अपना, एक विशिष्ट IP address होता है। लेकिन कौन IP address का मालिक है और कौन उन्हें वितरित करता है?

ICANN (Internet Corporation for Assigned Names and Numbers) IP addresses बनाने और वितरित करने के लिए responsible है। तो, ICANN प्रत्येक IP address का प्रारंभिक owner है। वहां से, IP addresses IANA (Internet Assigned Numbers Authority) तक पहुंचते हैं, जो ICANN का एक function है और जो DNS Root, IP addressing, और दुसरे internet protocol resources के global coordination के लिए responsible है।

IANA पांच Regional Internet Registries (RIRs), को IP addresses वितरित करता है, उनमें से एक ARIN (American Registry for Internet Numbers) है। फिर, ISPs (Internet Service Providers) जैसी कंपनियों को IP addresses वितरित किए जाते हैं, जो अपने ग्राहकों (clients) को unique IP addresses प्रदान करते हैं।

IP address के प्रकार (Types of IP address in Hindi)

IP addresses के कुछ मुख्य प्रकार होते हैं जैसे कि private IP addresses, public IP addresses, static IP addresses और dynamic IP addresses, आइए एक-एक करके इन सब प्रकार के बारे में बात करते हैं:

  • Private IP Address

एक private IP address आपके डिवाइस का पता होता है जो घर या व्यावसायिक नेटवर्क से जुड़ा हुआ होता है। अगर आपके पास एक ISP (Internet Service Provider) से जुड़े कुछ अलग-अलग devices हैं, तो आपके सभी devices में एक unique प्राइवेट आई पी एड्रेस होगा। यह IP address आपके घर या व्यावसायिक नेटवर्क से बाहर के devices से एक्सेस नहीं किया जा सकता है।

उदाहरण के लिए: 192.168.1.1

IP Address कैसे पता करे (How to know IP address in Hindi)?

आप कुछ तकनीकों का उपयोग करके अपने device के private IP address का पता लगा सकते हैं। अगर आप एक Windows user हैं, तो बस command prompt पर जाएं और ipconfig command enter enter करें। अगर आप एक mac user हैं, तो आपको अपने Terminal app में ifconfig command enter करना होगा।

अगरआप मोबाइल फोन पर इंटरनेट का उपयोग कर रहे हैं, तो आप IP address का पता लगाने के लिए अपने WiFi settings पर जाएँ। iOS users जिस नेटवर्क से connected हैं, उसके आगे ‘i‘ बटन पर क्लिक करके IP address का पता लगा सकते हैं। Android users अपने WiFi settings में नेटवर्क के नाम पर क्लिक करें, और यह IP address दिखाएगा।

  • Public IP Address

आपका public IP address मुख्य IP address होता है जिससे आपका घर या व्यवसाय नेटवर्क जुड़ा होता है। यह IP address आपको दुनिया से जोड़ता है, और यह सभी users के लिए unique होता है।

अपना public IP address जानने के लिए, बस अपने ब्राउज़र में SupportAlly साइट पर जाएँ, और यह आपका public IP, और आपके ब्राउज़र की अन्य जानकारी दिखायेगा।

  • Static and Dynamic IP Addresses

सभी private और public IP addresses या तो static या dynamic हो सकते हैं। IP addresses जो आप मैन्युअल रूप से configure करते हैं और उन्हें अपने डिवाइस के नेटवर्क पर fix करते हैं उन्हें static IP address कहा जाता है। Static IP addresses automatically नहीं बदल सकते हैं।

जब आप router को इंटरनेट के साथ सेट करते हैं तो dynamic IP address अपने आप कॉन्फ़िगर हो जाता है और आपके नेटवर्क को IP assign कर देता है। IP addresses का यह वितरण (distribution) Dynamic Host Configuration Protocol (DHCP) द्वारा manage किया जाता है। DHCP आपका इंटरनेट राउटर हो सकता है जो आपके घर या व्यावसायिक वातावरण में आपके नेटवर्क को एक IP address प्रदान करता है।

IP address का उद्देश्य क्या है?

IP address का उद्देश्य device और destination site के बीच connection को handle करना होता है। IP addresses, computing devices (जैसे PCs और tablets) को वेबसाइटों और streaming services जैसे destinations के साथ communicate करने की अनुमति देते हैं, और वे वेबसाइटों को यह जानने में मदद करते है कि कौन सी device उनकी वेबसाइट से कनेक्ट है।

एक IP address भी return address के रूप में काम करता है, ठीक उसी तरह से जैसे  postal mail पर return address काम करता है। जब आप एक letter को mail करते हैं और वह ग़लत पते पर deliver हो जाता है, तो अगर आप envelope पर return address लिखे होते हैं तो वो आपको वापस मिल जाता है। ठीक कुछ ऐसा ही email के साथ भी होता है। जब आप invalid recipient को लिखते हैं, तो आपका IP address कंपनी के मेल सर्वर को आपको bounce back email भेजने में सक्षम बनाता है, जिसमें कहा जाता है कि “destination was not found” मतलब destination नहीं मिला।

IP address security in Hindi

आपको अपने IP address की सुरक्षा करनी चाहिए उन सभी कारणों के लिए जो आप अपने घर के पते की रक्षा करने के लिये करेंगे। अपराधी कई कारणों से आपका फायदा उठाने का प्रयास कर सकते हैं। वे इसमें सक्षम हो सकते हैं:

  • अवैध सामग्री डाउनलोड करने के लिए आपके IP address की पहचान का उपयोग करने में: Pirates movies, music और अन्य सामग्री डाउनलोड कर सकते हैं और आप के रूप में दिखाई देते हैं, इसलिए आप अपने ISP के साथ किसी ऐसी चीज के लिए परेशानी में पड़ सकते हैं, जो आपने नहीं की।
  • आपके घर का पता लगाने में: एक IP address को एक real-world address में trace  करना संभव है।
  • आपके private internet traffic पर जासूसी करने में: Financial information सहित आपका sensitive personal data खतरे में पड़ सकता है, जब hackers आपके IP traffic तक पहुँचने में सक्षम होते हैं।
  • सीधे आप पर attack करने में: साइबर अपराधियों के बीच कई तरह के attack शुरू करने के लिए कई तरह के tools होते हैं, विशेष रूप से एक DDoS (distributed denial-of-service) का attack, जहां एक साइट पर इतने अधिक ट्रैफ़िक आने लगती है कि वह अभिभूत (overwhelmed) हो जाती है और shuts down जाती है।
आपका IP address आपके बारे में क्या बताता है?

एक चिंता आपको IP address के बारे में यह भी हो सकती है कि आखिर वो आपके बारे में किसी third parties को क्या बता सकती हैं।

खैर, क्योंकि IP address आपके डिवाइस का address होता है, इसलिए इसमें कोई आश्चर्य नहीं कि IP address आपके device की approximate physical location (यदि आप किसी VPN या proxy का उपयोग नहीं कर रहे हैं) को प्रकट करता है। अगर आप एक IP checker tool पर जाते हैं, तो आप देखेंगे कि यह आपके उस क्षेत्र, शहर  और zip code को दिखता है जहाँ पर आप रहते हैं। ये details हमेशा सटीक नहीं होते हैं क्योंकि यह आपको आपके वास्तविक स्थान से कुछ km दूर दिखा सकता है।

आप खुद को कैसे सुरक्षित रख सकते हैं?

अगर आपका डिवाइस firewall, antivirus और एक updated OS द्वारा सुरक्षित है, तो hackers केवल आपके IP address के आधार पर आपको hack करने में सक्षम नहीं होने चाहिए।

आपके डिवाइस को केवल IP address के साथ हैक किया जा सकता है, अगर unsecured router, open ports और कोई firewall जैसी अन्य भेद्यताएं (Vulnerabilities) नहीं हैं, या आप एक वेबसाइट या प्रोग्राम का उपयोग कर रहे हैं जिसमें कमजोरियां हैं। IP addresses का उपयोग करने वाला सबसे आम attack DDOS attack है।

भले ही कोई व्यक्ति IP address का उपयोग करके आपके डिवाइस को hack नहीं कर सकता है, लेकिन फिर भी वह आपके स्थान का पता लगा सकता है।

अपने आप को ऑनलाइन सुरक्षित रखने का सबसे कारगर तरीका है कि आप अपना असली IP address छिपा लें। आप proxy या VPN service का उपयोग करके ऐसा आसानी से कर सकते हैं।

अपना IP address  कैसे बदलें?

अपने IP address को बदलने से आपकी ऑनलाइन सुरक्षा और गोपनीयता में सुधार होगा।

अपने IP address को बदलने का मुख्य तरीका proxy server या VPN service का उपयोग करना है। एक VPN service का उपयोग करना अधिक कुशल है आपके IP address को proxy की तुलना में बदलने के लिए।

आपको यह लेख कैसा लगा?

हम उम्मीद करते हैं कि यह लेख IP Address क्या है (What is IP Address in Hindi) आपको अच्छा लगा होगा और इसमें आपको IP Address के बारे में काफी कुछ नया जानने को मिला होगा।

अगर आपके पास हमारे इस लेख को लेकर कोई सवाल है या आप अपना कोई सुझाव देना चाहते हैं तो आप नीचे comment box में लिख सकते हैं।

और अगर आपको हमारा यह लेख अच्छा लगा तो कृपया इस लेख को Social Media Sites जैसे Facebook,WhatsApp और Twitter आदि पे नीचे दिए गए बटन का उपयोग करके share करना न भूलें धन्यवाद। 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here