कोरोना वायरस पर निबंध | Essay on Coronavirus in Hindi

Coronavirus Essay in Hindi: कोरोना वायरस, जिसे कोविड-19 के नाम से भी जाना जाता है, जो कि 2019 में पूरी दुनिया के सामने एक गंभीर महामारी के रूप में उभर कर सामने आया था। इसने पता नहीं कितने लोगों की जान ले ली और बहुत सारे देशों की बढ़ती हुई अर्थव्यवस्था को झकझोर कर रख दिया।

वर्तमान समय में समस्त लोगों के सामने यह एक बहुत गंभीर बीमारी है, और भविष्य में भी इस तरह की गंभीर बीमारियां हो सकती है। इसलिए आपको कोरोना वायरस के कारण तथा लक्षण और बचाव के उपाय पता होना चाहिए।

इसलिए आज हम आपको कोरोना वायरस पर निबंध के रूप में इन सभी के बारे में जानकारी प्रदान करेंगे। इसके अलावा अगर आपके विद्यालय में कभी Coronavirus Essay in Hindi लिखने को आता है तो आप इस लेख की सहायता लेकर निबंध लिख सकते हैं।

Coronavirus Essay in Hindi

प्रस्तावना – Coronavirus Essay in Hindi

कोरोना वायरस सर्वप्रथम कहां से पैदा हुआ? और यह देखते ही देखते पूरी दुनिया में कैसे फैल गया? इस सवाल का जवाब जानने की इच्छा लगभग सभी लोगों को होती है, लेकिन इसका सही सही जवाब बहुत कम लोगों के पास है।

लेकिन कुछ विशेषज्ञों और समाचार एजेंसियों के मुताबिक सबसे पहले यह वायरस चीन के वुहान राज्य से शुरू हुआ था।

उसके बाद यह वायरस बहुत तेजी से कई देशों में फैल गया और इसके कारण लोगों की मृत्यु होने लगी। उसके बाद समस्त देशों द्वारा मिलकर कोरोना वायरस से लड़ने के लिए कारगर उपाय निकाले गए।

इसके अलावा नई वैक्सीन की खोज की गई, जो पूरी तरह से इसे खत्म तो नहीं करती लेकिन इससे लड़ने के लिए मानव की प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ा देती है। लेकिन अभी भी कोरोना वायरस से पूरी तरह से निजात नहीं पाया गया है, और बहुत सारे देश अभी भी इस बीमारी से जूझ रहे हैं।

Essay on Coronavirus in Hindi

कोरोना वायरस क्या है?

Coronavirus, वायरस के ऐसे समूह में से है जिससे अगर कोई व्यक्ति संक्रमित हो जाता है, तो उसे जुकाम से लेकर सांस लेने में तकलीफ जैसी समस्या पैदा हो सकती है।

गले में खराश, दर्द, सांस लेने में तकलीफ होना, सूखी खांसी तथा सिर में दर्द होना और तेज बुखार आदि इसके प्रारंभिक लक्षण है।

कोरोना वायरस के लक्षण

कोरोना वायरस के लक्षण नीचे बताए गए हैं।

  • कोरोना वायरस के लक्षण में संक्रमित मरीज को गले में दर्द तथा खत्म न होने वाली सूखी खांसी आती रहती है, और मरीज को सांस लेने में तकलीफ होती है।
  • इससे संक्रमित मरीज के शरीर का तापमान बहुत बढ़ जाता है, और उसे तेज ज्वर का सामना करना पड़ता है।
  • इसके अलावा यह फेफड़ों को कमजोर बना देता है, जिससे मरीज को सांस लेने में कठिनाई होती है।
  • यह शरीर के दूसरे अंगों को भी नाकाम कर देता है, जिससे मरीज की मृत्यु तक हो जाती है।

यह भी पढ़ें:  प्रदूषण पर निबंध

कोरोना वायरस कैसे फैलता है?

कोरोना वायरस के संक्रमित मरीज के छींकने तथा खांसने के कारण दूसरे लोगों में पहुंचता है। इसके अलावा यह वायरस इससे संक्रमित किसी मरीज के थूक को किसी दूसरे व्यक्ति के द्वारा छूने से या अपने मुंह, नाक, चेहरे आदि पर लगाने से होता है।

यह वायरस किसी संक्रमित मरीज के दूसरे स्वस्थ व्यक्ति के संपर्क में आने पर फैलता है। इसके अलावा विभिन्न स्थानों पर सामान्य तापमान में यह वायरस जिंदा रह सकता है। जिससे यह अन्य लोगों में फैलता है।

विशेषज्ञों के मुताबिक कोरोना वायरस से संक्रमित कोई एक व्यक्ति हजारों लोगों को संक्रमित कर सकता है, क्योंकि यह वायरस मनुष्य के शरीर में 14 दिनों तक बिना किसी प्रकार का लक्षण दिखाएं सक्रिय रह सकता है।

कोरोना वायरस से बचने के उपाय

कोरोना वायरस से बचने के कुछ उपाय नीचे बताए गए हैं।

  • आपको कोरोना वायरस से खुद को बचाने के लिए स्वच्छता का विशेष ध्यान रखना होगा, और इसके लिए आपको समय – समय पर अच्छे तरीके से अपने हाथ और मुंह को धोना चाहिए। इसके लिए आप हैंड सैनिटाइजर का उपयोग कर सकते हैं।
  • जब भी कहीं बाहर जाएं तो उससे पहले अपने मुंह पर मास्क का प्रयोग अवश्य करें, और वापस आने के बाद उसकी सफाई करें।
  • जब भी आपको छींक या खांसी आए तो आप अपने मुंह को किसी टिशू पेपर या रुमाल से ढक ले, और उस टिशू पेपर को कूड़ेदान में फेंकना ना भूलें।
  • अगर आपके पास कोई व्यक्ति बाहर से सफर करके आया है, तो आपको उससे 2 सप्ताह तक दूरी बनाकर रखनी चाहिए। क्योंकि यह वायरस किसी व्यक्ति के अंदर 14 दिनों तक जीवित रह सकता है और इससे आपको संक्रमण होने का खतरा बढ़ सकता है।
  • इस वायरस से बचने का सबसे कारगर उपाय सामाजिक दूरी है, इसलिए अनावश्यक भीड़ भाड़ वाले इलाकों में ना जाएं, जिससे आप इससे बचे रहेंगे।
  • अगर कोई व्यक्ति इस वायरस से संक्रमित हो चुका है, तो उसे तत्काल इलाज के लिए अस्पताल जाना चाहिए और प्रभावी वैक्सीन लगवाने चाहिए। वैज्ञानिकों ने अभी तक जिन वैक्सीन की खोज की है, वह मरीज के रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाकर इस वायरस से बचने में सहायता करते हैं।

कोरोना वायरस से हानि

कोरोना वायरस एक विनाशक महामारी के रूप में दुनिया भर में फैला है, और कहीं कहीं यह अभी भी फैल रहा है। इसके कारण सभी देशों के लोग प्रभावित हुए, जिससे बहुत सारी हानि हुई।

इस वायरस के कारण एक देश से दूसरे देश के मध्य यातायात और व्यापार प्रभावित हुआ, जिससे सबकी अर्थव्यवस्था बहुत निचले स्तर पर गिर गई।

कोरोना वायरस के बचाव के लिए विभिन्न देशों के द्वारा  लॉकडाउन लगाया गया, ताकि लोगों के मध्य सामाजिक दूरी बनी रहे। लेकिन इसके कारण सभी के दैनिक कामकाज तथा व्यापार आदि में बाधा आई।

इससे बचाव के लिए लॉकडाउन लगने के कारण, सभी बाजार, धर्मस्थल, शॉपिंग मॉल तथा जिम आदि बंद कर दिए गए जिससे अपने देश की अर्थव्यवस्था पर बहुत बुरा असर पड़ा है।

यह भी पढ़ें:  Computer Par Nibandh

कोरोना वायरस का चिकित्सा के क्षेत्र में भूमिका

कोरोना वायरस का चिकित्सा के क्षेत्र में महत्वपूर्ण भूमिका रही है। वैसे तो इसके कारण मानव जाति को बहुत नुकसान हुए हैं, लेकिन इसकी वजह से कहीं ना कहीं चिकित्सा के क्षेत्र में कुछ नए महत्वपूर्ण बदलाव भी आए हैं।

जब कोरोना वायरस के कारण बहुत सारे लोगों की मौत हुई, और बहुत नुकसान हुआ, तो उसके बाद से लोगों ने स्वच्छता की तरफ और अधिक ध्यान देना शुरू कर दिया, इसके अलावा अब लोग मास्क लगाकर चलने लगे हैं।

अब भविष्य में इस प्रकार की कोई अन्य महामारी ना फैले इसके लिए सभी देशों ने चिकित्सा के क्षेत्र में खोज करने में तेजी लाने के लिए निवेश में बढ़ोतरी की है। और वैज्ञानिकों ने नई नई बीमारियों की पहचान और उनके इलाज के लिए परीक्षण में तेजी लाना शुरू कर दिया है।

उपसंहार | Coronavirus Essay in Hindi

इतिहास गवाह है कि इससे पहले भी कई प्रकार के वायरस का इंसानों पर आक्रमण हुआ, लेकिन उसके बाद भी इंसान ज्यादातर जागरूक नहीं होता है।

इस वायरस के कारण पता नहीं कितने लोगों की जानें गई, और अभी भी यह वायरस पूरी तरह से समाप्त नहीं हुआ है। लेकिन कोरोना वायरस के आने के बाद इंसानों के अंदर स्वच्छता के प्रति जागरूकता बढ़ी है। क्योंकि इस वायरस ने पूरी दुनिया को प्रभावित किया है।

हमें इससे खुद को बचाने के लिए, स्वच्छता को अपनाकर तथा सरकार द्वारा जारी किए गए कोविड गाइडलाइन्स को फॉलो करके खुद को बचा सकते हैं।


Conclusion

हम आशा करते हैं, कि आपको कोरोना वायरस पर निबंध (Essay on Coronavirus in Hindi) पसंद आया होगा। इस लेख को पढ़ने के बाद आपको कोरोना वायरस के बारे में काफी कुछ जानने को मिला होगा।

अगर आपको कभी Coronavirus Par Nibandh लिखने की जरूरत पड़ती है, तो आप इस लेख की सहायता ले सकते हैं।

कृपया इस लेख को अपने दोस्तों के साथ भी साझा करें, जिससे वे इस वायरस के बारे में जागरूक रहें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here